सोमवार, 4 जुलाई 2011

my wealth

साथियो,
विगत कुछ दिनो से नेता,मंत्रीयो व सरकारी कर्मचारीयो से उनकी संपति की घोषणा करने की माग चल रही है । साथ ही पत्रकारों को आगे आकर अपनी संपत्ति की घोषणा करने की भी बाते हो रही है, मुझे इसमे कुछ बुराइ नजर नही आती इसलिये मै अपनी संपत्ति की घोषणा कर रहा हु जो इस प्रकार है .

1---गोरखपुर के ICICI BANK के सेलरी खाते मे----------132000
2--वाराणसी के ING BANK मे --- 26000
3--वाराणसी के BANK OF INDIA मे -- 1000
4--बजाज अलिंयाज मे 10 हजार का दो बिमा
5----बजाज अलिंयाज मे 50 हजार का एक बिमा
6--वाराणसी मे पैतृक मकान जिसमे परिवार कि भि हिस्सेदारी है ।

7-भदोही मे पैतृक जमीन 20 बिघा जिसमे से आधी जमीन मैने एक सँस्था को दान मे दे दी है
8--एक हिरो होंडा बाइक 2005 माडल ,आज उसकी किमत 10 हजार के लगभग

6 टिप्‍पणियां:

  1. रोहित जी आपके ब्लॉग का परिचय ''ब्लॉग के समाचार ''ब्लॉग पर प्रस्तुत किया गया है .ब्लॉग का URL है -''http ://blogkeshari .blogspot .com ''.आप इस लिंक पर आये व् अपने विचारों से अवगत कराएँ .

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्रीमान रोहित सिंह जी, आपने बहुत अच्छा कार्य किया है.उसके लिए आपका दिल की गहराइयों से आपको शुभकामनायें देता हूँ. दोस्त मैं भी वैसे अपनी संपत्ति की घोषणा दिल्ली नगर निगम 2007 और उत्तम नगर विधानसभा 2008 के चुनाव में कर चुका हूँ. जिससे www.ceodelhi.nic.in यहाँ देखा जा सकता है.जानकारी के अभाव में पूरा लिंक देने में असमर्थ हूँ.(वार्ड नं.127 और विधानसभा क्षेत्र का नं.32 है)मगर इन दिनों मेरे पास ऐसी कुछ संपत्ति हैं. जो मैंने ही अपनी पत्नी को ही दिलवाई थी.मगर हमारे देश के गले-सड़े कानूनों के अंतर्गत वो स्त्रीधन है. फ़िलहाल कई बार कहने के बाद भी मेरी पत्नी और जांच अधिकारी उसको लेकर नहीं जा रहें है.आज जिसकी कीमत अधिकतम पांच हजार रूपये होगी.मगर उनकी झूठी सूची के अनुसार मैंने अपने पास दस लाख रूपये का "स्त्रीधन" दबाकर रखा हुआ है.उस पर थोड़ा फैसला हो जाए तब मैं अपने घर के एक-एक चम्मच से लेकर दो जोड़ी टूटी हुई चप्पल तक को सार्वजनिक कर दूँगा. आप जैसी हिम्मत एक ईमानदार व्यक्ति ही कर सकता है. हम ठहरे बेईमान पत्रकार? इसके लिए कृपया 20 अक्टूबर 2011 तक समय दे दीजिए,क्योंकि जब तक मेरा स्विस देश के बैक में खाता भी खुल जाएगा और वहाँ पर पैसे जमा होने के बाद इलेक्ट्रोनिक्स कोड का लैटर भी आ जाएगा.पढ़े-लिखे लोगों की दुनियां में कभी इस अनपढ़, ग्वार और नाचीज़ के ब्लोगों पर नज़र-ए-इनायत करें.आपके नज़रे इनायत से शायद किसी गरीब का भला हो जाएगा.

    उत्तर देंहटाएं